Categories
Poems

नारी

जिसके आंचल के प्यार में सुख संसार समायाजिसके संकल्प के दम से यम भी घबराया जिसकी चंचल शौखियां रंग अनेक बिखराएजिसकी अदाऐं हर दिल की धङकन बन जाए जिसको अबला, बोझ, बन्धन माने ये दुनियावो गिर कर उठी, मुस्कुराती गईअपने लिए नये रास्ते बनाती गई