वो गुरु ही तो है जिसने धरा रूप निराला

नर तन धर हम आ गए,पर चारो ओर झमेला है।हे ! ईश्वर मन मेरा भरमाए,यह कहाँ मुझे धकेला है।। डरना नहीं है तुझको,मिलेंगे अनेक रक्षक तुझको।बस उनको तू पहचान लेना,हाथ उनका कसकर थाम लेना।। सही कहा था आपने हे ! ईश्वर।। मेरे लड़खड़ाते कदमों को स्थिर करने वाला,मेरी तोतली बोली में दुनिया के शब्द भरने … Continue reading वो गुरु ही तो है जिसने धरा रूप निराला

तितली वाला फूल

आज रास्ते में तितली वाला फूल दिख गया,आखों के सामने कुछ चित्र चलने लगे,हँसता खिलखिलाता एक चेहरा,फूल की पत्तियों की सीटी बजाता हुआ । दूसरे ही पल स्मृति के वह दृश्य सदृश्य हो उठे,बच्चों की एक टोली वहाँ से गुजरती थम गई,एक एक करके फूल की पखुड़िया बज उठी । कदम एकाएक उनकी ओर बढ़ने … Continue reading तितली वाला फूल

What fountains can teach us

Picture taken from : https://garden.lovetoknow.com/wiki/Water_Fountains Fountains are common sight as an ornamental architectural element. The history of fountains dates back to the early civilizations of Mesopotamia. With times, the design and process around the fountains has evolved. With technical advancements and improved mechanizations, they are a delight to observe. The added effects of sounds and lightening add to the glamour … Continue reading What fountains can teach us

अभिमान

इंसान भी गजब एंटरटेनमेंट हैहर एक ने अपनी गढ़ी हुई एक सल्तनत हैहर किसी को मैं की भयंकर बिमारी हैकुछ को तो मालूम नहीं की अहम् ने उनकी क्या दशा कर डाली है कोई सुंदरता पर इतराया है,तो किसी को अपने ज्ञान का मोल भाया हैकुछ सबको खरीदने का दम भरते,कुछ ने न जाने क्या … Continue reading अभिमान

Freedom

Picture from pin behanceLot of colors and an empty slateGive us the freedom to create Lot of faces and smiles to reflectGive us the freedom to connect Lot of sun and rain soaked clayGive us the freedom to choose play Freedom to fly or freedom to cryGive us the freedom to try

ढलते जीवन की लाचारी

धीमी गति, कांपता बदनबुझी आँखें, गुमशुदा स्वपन। ऐसे में कोई तो आएपलभर साथ का एहसास दे जाए । हम भी भागा करते थे कभीन जाने कब ज़माने की रफ्तार बढीहम ढूंढते रहे,  कारवां आगे बढ़ गया ।कम्बख्त जिन्दगी भी अजीब हैजिस भीङ के लिए जिएआज उसी भीड़ मे अकेले रह गए । अंत तो कभी … Continue reading ढलते जीवन की लाचारी